0 Comments

 रखना सोचकर हमारी सल्तनत में कदम,हमारी मोहब्बत की क़ैद में जमानत नहीं होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *