0 Comments

बदली हुई रुत का बदला हुआ परिंदा हु। हैरानगी तो ये है हर मौसम में ज़िंदा हु।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *