0 Comments

नहीं होती ज़िन्दगी हर पल ख़ास, नहीं होती फूलों की खुशबू हमेशा पास, लिखा था मिलना हमारी तकदीर में, नहीं होती वरना इतनी प्यारी दोस्ती से हमारा, इत्तेफाक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *