0 Comments

दिल टूटना सज़ा है मोहब्बत की, दिल जोड़ना अदा है दोस्ती की, मांगे जो कुर्बानी वो है मोहब्बत, हो जाए जो बिन मांगे कुर्बान वो है दोस्ती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *