0 Comments

चाहता  तो हूँ कि हर रोज आपको अनमोल खजाना भेजू दोस्तों,  पर मेरे दामन मे  दुआओं के सिवा कुछ भी नहीं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *