0 Comments

दोस्ती का हाथ जब मैंने बढ़ा दिया, फिर नहीं गिना की किसने कब दगा दिया।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *