0 Comments

” तेरे दिल के बाजार में मै रोज़ बिकता हु।  कुछ लफ्ज़ तेरी यादों के हर रोज़ लिखता हु। “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *