0 Comments

बिन मेरे रह ही जाएंगी कोई ना कोई कमी शायद,ज़िन्दगी को तुम जितनी मर्ज़ी संवारने की कोशिश कर लो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *