0 Comments

मेरे ग़म को कोई नहीं समझ सका क्यों के मुझे आदत थी मुस्कराने की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *