0 Comments

झूठ और फ़रेब … लालच से परे  है I भगवान का शुक्र है आइने आज भी खरे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *