0 Comments

कश्मकश है ये भी की झूठ कितना बोला जाए। कितना सच है इश्क़ में ये कैसे तोला जाए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *