0 Comments

तुम लोग तो बस अल्फाजो को पढ़ लेते हो, कभी सोचा कितना दर्द बड़ा होगा तब ये अलफ़ाज़ कलम तक आये होंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *