0 Comments

ना चाँद अपना था और ना तू अपना था …!! काश दिल भी मान लेता की सब सपना था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *